Sunday, April 7, 2024
HomeAsthaNavratri 2023 Day 5 Puja में किस समय पूजा करने से धन...

Navratri 2023 Day 5 Puja में किस समय पूजा करने से धन की प्राप्ति होगी और भक्तों के कष्ट दूर होंगे

Navratri 2023 Day 5 puja में किस समय पूजा करने से धन की प्राप्ति होगी और भक्तों के कष्ट दूर होंगे। “इस दिन मां दुर्गा के तीसरे रूप स्कंदमाता की पूजा का विधिवत आयोजन किया जाता है। पुराणों और शास्त्रों के अनुसार, मां दुर्गा के इस रूप को अत्यंत शांतिदायक और शुभ माना जाता है। यहां घंटे के आकार का अर्धचंद्र होता है। माता रानी के मुख में अवतरित हुए, इस कारण माता का नाम ‘स्कंदमाता’ पड़ा। अगर आप भी मां स्कंदमाता का आशीर्वाद पाना चाहते हैं तो आपको विधिपूर्वक मां की पूजा करनी चाहिए। साथ ही पूजा के समय माता की पूजा करनी चाहिए। आपको व्रत कथा का पाठ भी अवश्य करना चाहिए।”

Parivartini Ekadashi puja 2023

मां स्कंदमाता पूजा विधि 2023 –

  • सुबह सबसे पहले स्नान आदि करने के बाद। , देवी माँ का ध्यान करें।
  • अपने पूजा स्थल पर एक चौकी स्थापित करें और उस पर मां स्कंदमाता की मूर्ति रखें।
  • मूर्ति को जल और फूलों से सजाएं।
  • अपने हाथ पर तिलक बनाएं और इसे मां स्कंदमाता की मूर्ति पर लगाएं।
  • पूजा की शुरुआत में दीपक जलाएं और अगरबत्ती का धुआं करें।
  • पूजा के बाद स्कंदमाता माता की आरती गाएं।
  • मां की आरती के बाद प्रसाद बांटें और अपने परिवार और दोस्तों के साथ साझा करें।
Navratri 2023 Day 5 Puja

नवरात्रि के दौरान माँ स्कंदमाता का इतना महत्व क्यों है?

  • Navratri 2023 Day 5 Puja मां स्कंदमाता अपने दिव्य स्वरूप के आदर्श एवं महत्वपूर्ण कारणों से ही नवरात्रि के दौरान महत्वपूर्ण हैं। चंद्रघंटा माता नवरात्रि के तीसरे दिन की देवी हैं और उनकी पूजा का विशेष महत्व है:
  • सुरक्षा और शांति का प्रतीक: चंद्रघंटा का रूप बहुत प्राचीन और पारंपरिक है, जिसमें माता का वाहन स्कंदमाता है, जो एक शांत और ध्यानमग्न गाय है। उनका यह रूप सुरक्षा और शांति का प्रतीक है और उनकी पूजा करने से लोगों को घर में शांति मिलती है।
  • शक्ति का प्रतीक: स्कंदमाता माता का नाम शक्ति और सौभाग्य से जुड़ा है। उनकी पूजा शक्ति के प्रतीक के रूप में की जाती है, जिससे भक्तों को शक्ति प्राप्त होती है।
  • आध्यात्मिक महत्व: स्कंदमाता माता का वाहन गाय है, जो आध्यात्मिकता और ध्यान का प्रतीक है। इनकी पूजा करके भक्त आध्यात्मिक उन्नति की ओर बढ़ते हैं।
  • नारी शक्ति का महत्व: स्कंदमाता माता का स्वरूप नारी शक्ति और मातृत्व का प्रतीक है। उनकी पूजा नारी शक्ति को महत्व देने वाली मानी जाती है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments